अटलजी की कविता : दूध में दरार पड़ गई

अटलजी की कविता : दूध में दरार पड़ गई

जयंती पर विशेष

ख़ून क्यों सफ़ेद हो गया?
भेद में अभेद खो गया।
बँट गये शहीद, गीत कट गए,
कलेजे में कटार दड़ गई।
दूध में दरार पड़ गई।

खेतों में बारूदी गंध,
टूट गये नानक के छंद
सतलुज सहम उठी, व्यथित सी बितस्ता है।
वसंत से बहार झड़ गई
दूध में दरार पड़ गई।

अपनी ही छाया से बैर,
गले लगने लगे हैं ग़ैर,
ख़ुदकुशी का रास्ता, तुम्हें वतन का वास्ता।
बात बनाएँ, बिगड़ गई।
दूध में दरार पड़ गई।

ekatma

Related Posts

कितने मुस्लिम पुरुष हैं जो हिन्दू महिला के प्रेम में हिन्दू बने?

कितने मुस्लिम पुरुष हैं जो हिन्दू महिला के प्रेम में हिन्दू बने?

इस्लाम के प्रचारक हैं ये क्रिकेटर..

इस्लाम के प्रचारक हैं ये क्रिकेटर..

दुनिया का वो देश जहां मुस्लिम तो हैं लेकिन वो मस्जिद नहीं बना सकते

दुनिया का वो देश जहां मुस्लिम तो हैं लेकिन वो मस्जिद नहीं बना सकते

एक और मुस्लिम लीग की तैयारी!

एक और मुस्लिम लीग की तैयारी!

No Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Recent Comments

Archives

Categories

Meta